ALL 30
रिलायंस ऐश डाइक हादसा- बी. के. पांडेय अपर जिला मजिस्ट्रेट नियुक्त हुए जांच अधिकारी म.प्र. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भी एक्शन में 48 घण्टे बाद भी  सर्चिंग टीम के हाथ खाली
April 13, 2020 • रिटर्न विश्वकाशी न्यूज (आर वी न्यूज लाइव )

रिलायंस ऐश डाइक हादसा- बी. के. पांडेय अपर जिला मजिस्ट्रेट नियुक्त हुए जांच अधिकारी म.प्र. प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड भी एक्शन में 48 घण्टे बाद भी  सर्चिंग टीम के हाथ खाली

आर.वी न्यूज जिला ब्यूरो चीफ विवेक पाण्डेय संवाददाता करुना शर्मा

मध्यप्रदेश सिंगरौली / सासन रिलायंस पावर प्लांट ऐश डाइक हादसे में प्रभावित लोंगो को सिंगरौली कलेक्टर के.व्ही. एस.चौधरी द्वारा राहत राशि दिलाने व मजिस्ट्रियल जांच का आदेश देने के बाद घटना के तीसरे दिन अपर मजिस्ट्रेट बी. के. पांडेय को जांच अधिकारी नियुक्त कर दिया  गया है। कलेक्टर श्री चौधरी ने नियुक्त अधिकारी को अगले 45 दिन में ऐश डाइक के टूटने व उसकी गुणवत्ता आदि सहित अन्य कारणों का बिंदुवार जांच कर प्रतिवेदन प्रस्तुत करने का आदेश दिया है। 

के.व्ही. एस. चौधरी कलेक्टर व जिला मजिस्ट्रेट सिंगरौली ने दंड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 176 के तहत रिलायंस सासन पावर ऐश डाइक हादसे की मजिस्ट्रियल जांच का आदेश दिया और मजिस्ट्रियल जांच हेतु बी. के. पांडेय अपर जिला मजिस्ट्रेट सिंगरौली को मजिस्ट्रियल जांच अधिकारी नियुक्त किया है।

इन बिन्दुओ पर होगी जांच,

कलेक्टर सिंगरौली ने जांच अधिकारी को जिन बिंदुओं पर जांच करने का किया निर्देशित

1- रिलायंस सासन पावर परयोजना का ऐश डेम टूटने की घटना किन परिस्थियों में हुई तथा उक्त घटना के लिये कौन उत्तरदायी है?
2- क्या रिलायंस सासन पावर परियोजना के ऐश डेम टूटने का निर्माण निर्धारित मानदंडों एवं गुणवत्ता के अनुरूप किया गया था? यदि हाँ तो ऐश डैम टूटने की घटना का कारण क्या?
3- यदि निर्माण गुणवत्ता के अनुरूप नही किया गया था तो घटिया निर्माण हेतु कौन उत्तरदायी है? 
4- भविष्य में ऐसी घटनाओं की पुनरावृत्ति न हो इस हेतु क्या उपचार अथवा सुझाव हो सकते हैं सहित अन्य सुसंगत बिंदु जिसे जांच अधिकारी उचित समझे प्रतिवेदन में अपनी रिपोर्ट प्रस्तुत करेंगे। कलेक्टर श्री चौधरी ने जांच अधिकारी को को आदेश दिया है कि निर्माण कार्य की गुणवत्ता की जांच एवं तकनीकी सहयोग हेतु कार्यपालन यंत्री लोक निर्माण विभाग संभाग सिंगरौली, कार्यपालन यंत्री जल संसाधन विभाग सिंगरौली एव सहायक महा महाप्रबंधक सड़क विकास निगम सिंगरौली से आवश्यकता अनुसार सहयोग प्राप्त करने स्वतंत्र होंगे।

प्रदूषण नियंत्रण विभाग भी सक्रिय

कलेक्टर सिंगरौली श्री चौधरी ने बताया कि रिलायन्स ऐश डाइक हादसे से कई गांवों के सैकड़ो एकड़ जमीन में फैले राखड़ से होने वाले पर्यावरण  क्षति के आकलन के लिए म. प्र.प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने नमूनों को संग्रह कर पर्यावरणीय क्षति के आकलन के लिए अपना काम शुरू कर दिया है। 

48 घण्टे बाद भी सर्चिंग टीम के हाथ खाली

रिलायंस पावर प्लांट ऐश डैम फूटने का हादसा गत शुक्रवार शायं 5 बजे हुआ, ऐश के मलवे में बहे 3 मासूम सहित 6 लोगों में से बचे  चार लोंगो को सर्चिंग में एनडीआरएफ , एसडीआरएफ व भारी संख्या में लगी पुलिस  टीम के हाथ घटना के 48 घण्टे बाद भी खाली रहे। जेसीबी आदि कई उपकरणों का सहारा लेकर लापता लोगो की तलाश की गई लेकिन नतीजा सिफर रहा।   सर्चिंग ऑपरेशन के दौरान आज सिंगरौली एसडीएम ऋषि पवार, देवसर एसडीएम विकास सिंह सहित सरई एसडीएम व कोतवाली टीआई अरुण पांडेय मौजूद रहे।