ALL 30
रामपुर पुल के ऊपर घंटों लगा रहा जाम प्रशासनिक अधिकारियों का धोखा, रामपुर पुल के ऊपर से राजस्व अधिकारी आर आई सूर्यमणि मांझी निकलवाते दिखे ओवरलोड ट्रक
September 10, 2020 • रिटर्न विश्वकाशी न्यूज (आर वी न्यूज लाइव )

रामपुर पुल के ऊपर घंटों लगा रहा जाम प्रशासनिक अधिकारियों का धोखा, रामपुर पुल के ऊपर से राजस्व अधिकारी आर आई सूर्यमणि मांझी निकलवाते दिखे ओवरलोड ट्रक

जिला ब्यूरोचीफ महेंद्र सिंह छतरपुर मध्यप्रदेश

जनपद छतरपुर मध्य प्रदेश रिर्टन विश्वकाशी (RV NEWS LIVE) व्यूरो न्यूज- जिला छतरपुर चंदला बिधानसभा 49 रेत के खेल मेंआनंदेश्वर फूड एंड कंपनी इन अधिकारियों को देती है मोटी रकम जिस कारण यह अधिकारी किसी भी प्रकार से झूठ बोलने को रहते हैं आमादा,पूर्व विधायक आरडी प्रजापति द्वारा दिए जा रहे धरने पर एसडीएम लवकुशनगर अविनाश रावत ने दिया आश्वासन अवैध उत्खनन रोकने के लिए खनिज अधिकारी से कराया जाएगा परीक्षण

पूर्व विधायक के धरना खत्म होते ही शुरू हुआ रेत का अवैध उत्खनन रात दिन निकले हजारों ओवरलोड ट्रक,अभी 24 घंटे भी नहीं हुए कि इन अधिकारियों ने गिरगिट की तरह बदल दिए अपने रंग शाम होते ही अवैध खनन फिर से हुआ चालू

राजस्व अधिकारियों ने दिया झूठा आश्वासन

राजस्व अधिकारियों ने झूठा आश्वासन दिया जब इस संबंध में दूरभाष पर एसडीएम अविनाश रावत से बात की गई तो उन्होंने साफ शब्दों में कहा कि आनंदेश्वर ने लगभग 90 करोड रुपए का राजस्व जमा किया है जिस वजह से हम उन्हें ऐसे नहीं रोक सकते इसके लिए खनिज विभाग से आपको बात करनी चाहिए।

कहावत झूठी नहीं कि छोटे मियां तो छोटे मियां बड़े मियां सुभान अल्लाह

यहां पर यह कहावत झूठी नहीं कि छोटे मियां तो छोटे मियां बड़े मियां सुभान अल्लाह अवैध उत्खनन का कार्य चलते ही खनिज विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए जाते हैं कि जब तक खनन का काम चलेगा आपके मोबाइल स्विच ऑफ रहेंगे और यही होता चला आ रहा है खनिज अधिकारी अजय मिश्रा और अमित मिश्रा के मोबाइल बंद आ रहे हैं जिससे इन अधिकारियों से संपर्क न साधा जा सके और निरंतर रेत की डकैती चलती रही आखिर आनंदेश्वर कंपनी दिन रात अवैध बालू की डकैती कर सरकार को कब तक सहयोग प्रदान करेगी यह जनता है सब कुछ जानती है अगर सरकार में बैठे नेता इस गोरखधंधे को इसी प्रकार बढ़ावा देते रहेंगे तो वह दिन दूर नहीं जब जनता ऐसे भ्रष्ट नेताओं को कुर्सी से नीचे पटक देगी।
इन के वरिष्ठ नेताओं को इस बात का इल्म होना चाहिए कि यही वह जनता है जिससे वह वोट मांग कर कुर्सी में बैठते हैं और यही जनता उन्हें कुर्सी से भी गिरा सकती है अब देखना यह है कि आनंदेश्वर कंपनी कब तक जंगलराज के तहत अपने काम को अंजाम देती रहेगी।