ALL 30
फर्रुखाबाद के गौवंश आश्रय स्थलों की पूरे देश और जर्मनी तक गूंज
October 3, 2020 • रिटर्न विश्वकाशी न्यूज (आर वी न्यूज लाइव )

फर्रुखाबाद के गौवंश आश्रय स्थलों की पूरे देश और जर्मनी तक गूंज

संवाददाता सचिन यादव फर्रुखाबाद

जनपद फर्रुखाबाद उत्तर प्रदेश रिर्टन विश्वकाशी (RV NEWS LIVE) व्यूरो न्यूज- याकूतगंज गौशाला पहुंचे समग्र गंगा अभियान के राष्ट्रीय संगठन मंत्री ब्रजेन्द्र सिंह ने जिलाधिकारी मानवेनद्र सिंह की दिल खोल प्रशंसा की जनपद में डीएम व सीडीओ द्वारा बनवाये गये 24 गौवंश आश्रय स्थलों को रोजगार से जोड़ने की तैयारी, गाय पर निवेश, रोजगार और गौमूत्र, गोबर से जैविक खाद बनाने के महाभियान की भारत के पूर्व सचिव डाॅ. कमल टाबरी समेत बड़ी हस्तियों ने सराहा की

फर्रुखाबाद : मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मंशा के अनुरूप जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह द्वारा जनपद में 24 क्लस्टर के रूप में बेहतरीन ढंग से स्थापित किये गये गौवंश आश्रय स्थलों की गूंज देश के कोने-कोने तक पहुंचने के बाद विदेशों तक है। जर्मनी में रह रहे भारत के पूर्व सचिव डाॅ. कमल टाबरी, प्रख्यात चार्टेड एकाउटेंट ललित मोहन, नोएडा के शिक्षाविद् बीजी सिंह समेत तमाम चर्चित हस्तियों ने यहां के गौवंश स्थलों की खासकर इसलिए सराहना की क्योंकि उनसे ग्रामीण जनमानस के युवाओं को रोजगार से जोड़ा जा रहा है साथ ही जनपद के सीडीओ डाॅ. राजेन्द्र पेंसिया के निर्देशन में गौमूत्र और गोबर से बनने वाली खाद के साथ-साथ ग्रामीण परिवेश के रोजगारों को भी बढावा दिया जा रहा है। समग्र गंगा अभियान एवं लोकभारती के राष्ट्रीय संगठन मंत्री ब्रजेन्द्र सिंह ने आज याकूतगंज गौशाला का भ्रमण किया। उन्होंने यहां की सौन्दर्य छटा और बेहतर नारा लेखन समेत गौवंश के रखरखाव की तकनीकीयुक्त व्यवस्थाओं को लेकर जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह की जमकर प्रशंसा की। उन्हें खण्ड विकास अधिकारी बढ़पुर भारत प्रसाद व गौशाला के नोडल अधिकारी एडीओ पंचायत बढ़पुर ने पूरे गौवंश आश्रय स्थल का बारीकी से निरीक्षण कराया। श्री सिंह ने गौशाला के उत्थान और कृषि एवं किसान से गौशालाओं को जोड़ने के सम्बन्ध में अपने तमाम सुझाव दिये साथ ही यहां बेहतर वृक्षारोपण और गौवंश स्थल के शानदार कायाकल्प के लिए भी बधाई दी। कहा कि पूरे प्रदेश में इस प्रकार के गौवंश आश्रय स्थल बनें तो गाय और गंगा का महत्व नई पीढ़ी के जेहन में समावेश होकर ही रहेगा।

बता दें कि गौवंश आश्रय स्थलों को जैविक किसानी से जोड़ने के लिए सीडीओ डाॅ. राजेन्द्र पेंसिया ने अपने बेहतर तरीकों का इस्तेमाल कर नई पीढ़ी का शानदार तरीके से समावेश किया है। जर्मनी में बैठे भारत सरकार के पूर्व सचिव डाॅ. कमल टाबरी ने बेविनाॅर के जरिए जनपद में जिलाधिकारी मानवेन्द्र सिंह द्वारा बनाये गये 24 क्लस्टर एक बेहतर प्रयास बताये हैं। कहा कि जिला प्रशासन द्वारा उचित देखभाल के जरिए गौवंश की यह व्यवस्था आम जनमानस को रोजगार से भी प्रेरित करेगी।