ALL 30
नशेडिय़ों पर भारी पड़ रहा लॉकडाउन-प्रशासन प्रतिबंध के बावजुद चौक चौराहे,बाजार मे खुलेयाम बिक रहा गुटखा,तमाखू ,बीड़ी, सिगरेट
April 20, 2020 • रिटर्न विश्वकाशी न्यूज (आर वी न्यूज लाइव )

नशेडिय़ों पर भारी पड़ रहा लॉकडाउन-प्रशासन प्रतिबंध के बावजुद चौक चौराहे,बाजार मे खुलेयाम बिक रहा गुटखा,तमाखू ,बीड़ी, सिगरेट

आर वी न्यूज लाइव ब्यूरो चीफ महेंद्र सिंह ठाकुर छतरपुर

जिला छतरपुर मध्य प्रदेश छतरपुर।। कोरोना वायरस की वजह से देशभर में लागू लॉकडाउन नशेडिय़ों पर कुछ ज्यादा ही भारी पड़ रहा है। लॉकडाउन में पान-गुटखा की दुकानें बंद हैं इससे बीड़ी पीने वालों और गुटखा खाने वालों को 10 रुपए की बीड़ी का बंडल 15 से 20 रुपए में तथा 20 रुपए का गुटखा का पाउच 30-35 रुपए में खरीदनी पड़ रही है। खाने बालों की जिले में कमी नही ओर बेचने बाले भी रोक के बाबजूत भी अभी भी चोरी छिपे बेच रहे क्योकि इनको कारबाही का बिल्कुल भी डर नहीं है।।

वसूल रहे दोगुनी कीमत

जब से लॉकडाउन हुआ है,तब से बीड़ी, गुटखा मिलना मुश्किल हो गया है यह बात तो गलत है बल्कि महंगे दामों में आसानी से मिल रहा है और पहले छोटे दुकानों में यह मिल जाते थे मगर अब बाजार में चौक बाजार में मंहगे दामों में आज भी भारी मात्रा में गुटखा,  बीड़ी सिगरेट खुले आम बेचे जा रहे ।
बंडल पहले 10 रुपए में मिलता था, वह 15 रुपए और 20 रुपए वाला बंडल 30 रुपए में मिल रहा है। किसी-किसी से तो 10 रुपए के बंडल की कीमत 20 रुपए भी वसूली जा रही है। बीड़ी वाले का कहना है ।

गुटखा-तंबाकू की भी यही हालत

गुटखा, तंबाकू, सुरति या खैनी, जो कहें, वह भी अभी सुलभ नहीं है। लेकिन इन्हें खाने वालों को ये आसानी से सुलभ हो जाती हैं। बस उन्हें पहले से अधिक कीमत चुकानी पड़ती हैै। खाने वालों का कहना है कि पूरे बाजार में गुटखा गुटखी मिले न मिले मगर चौक बाजार पर आज भी मंहगे दामों में कुछ दुकान में आज भी आसानी से मिल जाता है। तो बंद है, लेकिन उन्हें गुटखा मिल जाता है कैसे लेते हैं, इस सवाल पर उन्होंने बताया कि 20 रुपए का गुटखा का पाउच 30-35 रुपए में मिलता है।  इस समय सिगरेट भी महंगे हो गए हैं। कहीं-कहीं दुकानों पर भी सिगरेट भी खुले आम बेची जा रही है ।ब्यापारी नेता लालू लालबानी ने प्रशासन से मांग की है कि जिले में प्रतिबंधित होने के बाबजूत ऐसे ब्यापारी जो आज भी गुटखा, गुटखी, बीड़ी, सिगरेट बेच रहे उन लोगो के यहाँ छापामार कारबाही कर सख्त कारबाही करने की मांग की।।