ALL 30
जिले में हो रहा रेत का अवैध उत्खनन जिसमें स्थानीय पुलिस प्रशासन की मिलीभगत से नदियों का दोहन कर रेत निकाल कर बेचा जा रहा है। 
December 23, 2019 • रिर्टन विश्वकाशी न्यूज (आर वी न्यूज )

जिले में हो रहा रेत का अवैध उत्खनन जिसमें स्थानीय पुलिस प्रशासन की मिलीभगत से नदियों का दोहन कर रेत निकाल कर बेचा जा रहा है। 

 
       
आइए हम जानते हैं विस्तार से क्या है पूरा मामला बात कर रहे हैं जिला सिंगरौली अंतर्गत गड़हरा देवरी कि जहां रेत का अवैध उत्खनन रेत को ऊंचे दामों में बेचने का गोरख धंधा जोरों पर चल रहा है। सूत्रों की माने तो गड़हरा देवरी नदी से  आए दिन हीरा दुबे नामक व्यक्ति ट्रैक्टर क्रमांक ,MP66A3756 से कई महीनों से ट्रैक्टर के जरिए लाखों का अवैध रेत बेचते चले आ रहे हैं।
ऐसा ही एक मामला आज दिनांक 22:12 2019 को प्रकाश में आया जहां रोड के किनारे धड़ल्ले से बिना किसी रॉयल्टी के बेचा जा रहा है जहां पर ट्रैक्टर क्रमांक एमपी 66 3756 के ड्राइवर ने रेत से लदे ट्रैक्टर को खाली कर रहा था हमारे संवाददाता स्थल पर पहुंचे तो कोई भी जानकारी देने से उसने मना कर दिया और बोला कि हम यूं ही रेत का विक्रय करते रहेंगे।


वहीं जिले में बैठे खनिज अमले की बात करें तो। केवल नाम मात्र के नियम बनाए गए हैं वह खनिज  अधिकारी व निरीक्षक से जब बात की जाए तो वह कहते हैं की रेत के अवैध परिवहन में लगे बड़े-बड़े महारथी से जाकर आप संपर्क करें क्योंकि हमें भी यह माफिया कुछ नहीं समझते हैं और अपने सरहंगई व दबंगई से जांच करने गए खनिज अमले की गाड़ी को निशाना बना हाईवा से कुचल वाने की पुरजोर कोशिश करने लगे हैं। जिनकी रोकथाम कर पाना असंभव जान पड़ रहा है।
                कहीं ना कहीं पुलिस प्रशासन व स्थानीय दबंगों के बल पर स्थानीय रेत माफिया इस कदर सक्रिय हो चुके हैं कि दिन व रात मे नदियों का दोहन कर रेत का भंडारण करवा के अवैध रेत को वैद्य कह के हजारों की कमाई कर रहे हैं।  आए दिन परसोना खूटार चौकी में पदस्थ पुलिस कर्मियों को यदि सूचना दी जाए तो वह मौके स्थल पर पहुंचकर ट्रैक्टर चालक व मालिक से आपसी संबंध बना हजारों रुपए की मांग करते हैं। और अवैध रेत से भरे ट्रैक्टर को बिना उचित कार्यवाही के ही पैसे लेकर छोड़ देते हैं जो कि कहीं ना कहीं पुलिसिया छवि को धूमिल करने का कार्य कर रहे हैं। आखिर चौकी में पदस्थ पुलिस कर्मी अपने मोटे कमीशन के लालच में आकर छोटे-मोटे अवैध रेत माफियाओं को संरक्षण दे रहे हैं ।

 खूटार चौकी बनने से पहले ही दो पुलिसकर्मियों को उस एरिया की कमान सौंपी गई जोकि 2 वर्ष बीत जाने के बाद भी वे पुलिसकर्मी चौकी अंतर्गत आने वाले गांव में अपनी धाक जमा चुके हैं आज दिनांक तक दोनों पुलिसकर्मियों की कहीं भी स्थानांतरण क्यों नहीं किया जा रहा है। 
आए दिन दोनों पुलिसकर्मियों के बारे में कई सारे अवैध कार्यों में लिप्त लोगों द्वारा अच्छी खासी कमीशन की भेंट चढ़ाई जाती रही है। जिसके चलते असामाजिक तत्व और अपराधीयो के हौसले दिन प्रतिदिन बुलंद होते दिख रहे हैं। जिसका एक सीधा सा उदाहरण है कि यहा दिन के उजाले में कई ट्रैक्टरों के द्वारा रेत,ढोका,ईट, आदि अवैध वस्तुओं के परिवहन खूटार चौकी के सामने से हो रहा है और पुलिस मुखदर्शक  बनी हुई है।